allinallwomen.com

aarti kunj bihari ki lyrics

aarti kunj bihari ki lyrics | aarti kunj bihari ki lyrics in hindi 2023

aarti kunj bihari ki lyrics Ke sath ♥

भगवान श्री कृष्ण को कुंज बिहारी के नाम से भी पुकारा जाता है। जैसा की सभी जानते है भगवान् श्री कृष्ण का जन्म तो मथुरा में हुआ था परन्तु उनका लालन पालन माँ यशोदा और बाबा नन्दलाल के घर वृंदावन में हुआ था । कुंज का अर्थ होता वृंदावन और बिहारी भगवान् श्री कृष्ण को कहा जाता है। इस प्रकार वृन्दावन में लालन पालन होने के कारण भगवान् श्री कृष्ण का नाम कुंज बिहारी पड़ा। कुंज बिहारी जी की आरती को कई गायको ने अपनी मधुर आवाज में गाया है जिसे सुनकर आपका मन प्रसन्न हो जाएगा। परन्तु यदि आप भगवान् श्री कृष्ण की पूजा अर्चना घर में अपने आप कर रहे है ऐसे में आपको aarti kunj bihari ki lyrics की आवश्यकता पड़ती है ताकि आप सही बोल के साथ भगवान् श्री कृष्ण आरती कर सके। तो चलिए शुरू करते है भगवान कुंज बिहारी जी की आरती aarti kunj bihari ki lyrics के साथ।

♥aarti kunj bihari ki lyrics in hindi ♥

aarti kunj bihari ki lyrics

आरती कुंजबिहारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की
आरती कुंजबिहारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की

गले में बैजंती माला बजावै मुरली मधुर बाला
श्रवण में कुण्डल झलकाला
नंद के आनंद नंदलाला
गगन सम अंग कांति काली
राधिका चमक रही आली
लतन में ठाढ़े बनमाली
भ्रमर सी अलक कस्तूरी तिलक चंद्र सी झलक
ललित छवि श्यामा प्यारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की

आरती कुंजबिहारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की
आरती कुंजबिहारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की

कनकमय मोर मुकुट बिलसै
देवता दरसन को तरसैं
गगन सों सुमन रासि बरसै
बजे मुरचंग मधुर मिरदंग ग्वालिन संग
अतुल रति गोप कुमारी की
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की
आरती कुंजबिहारी की
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की

आरती कुंजबिहारी की
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की

जहां ते प्रकट भई गंगा
कलश कल हारिणि श्री गंगा
स्मरन ते होत मोह भंगा
बसी शिव सीस
जटा के बीच
हरै अघ कीच
चरन छवि श्रीबनवारी की
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की
आरती कुंजबिहारी की
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की

आरती कुंजबिहारी की
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की

चमकती उज्ज्वल तट रेनू
बज रही वृंदावन बेनू
चहुं दिसि गोपि ग्वाल धेनू
हंसत मृदु मंद
चांदनी चंद
कटत भव फंद
टेर सुन दीन दुखारी की
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की
आरती कुंजबिहारी की
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की

आरती कुंजबिहारी की
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की
आरती कुंजबिहारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की

aarti kunj bihari ki lyrics

भगवान् श्री कृष्ण के वैवाहिक जीवन से जुड़े कुछ रोचक तथ्य

वैसे तो भगवान् श्री कृष्ण का नाम हमेशा राधा रानी के साथ ही लिया जाता है। कृष्ण के साथ हमेशा राधारानी की ही पूजा की जाती है। परन्तु कृष्ण जी के पत्नी के रूप में राधारानी का नाम नहीं लिया जाता है। कृष्ण जी की 16108 पत्निया थी जिन में से 8 प्रमुख थी जिनके नाम इस प्रकार है।

रुक्मिणी

रुक्मिणी भगवान कृष्ण की पहली पत्नी थीं। वह एक राजकुमारी और विदर्भ के राजा भीष्मक की बेटी थी। कृष्ण ने उनके भाई रुक्मी को हराने के बाद उनसे विवाह किया क्युकि रुक्मी नहीं चाहते थे कि उनकी बहन का विवाह श्री कृष्ण से हो।

सत्यभामा

सत्यभामा कृष्ण की प्रमुख रानियों में से एक थीं। वह अपनी सुंदरता, ताकत और उग्र स्वभाव के लिए जानी जाती थीं। सत्यभामा ने कृष्ण के जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और विभिन्न दिव्य घटनाओं में भाग लिया।

जामवंती

जामवंती राजा जाम्बवान की बेटी थी, जो एक भालू जैसा प्राणी था, और उसने भगवान कृष्ण से विवाह तब किया था जब उन्होंने उसके पिता को स्यमंतक नामक एक बहुमूल्य मणि के लिए युद्ध में हरा दिया था।

aarti kunj bihari ki lyrics

कालिंदी

कालिंदी एक नदी देवी और सूर्य देवता की बेटी थीं। भगवान कृष्ण ने उनसे विवाह भी किया।

मित्रविंदा

मित्रविंदा अवंती राज्य की राजकुमारी थीं और उन्होंने कृष्ण को अपने पति के रूप में चुना था।

नग्नजिति

नग्नजिति, जिसे सत्या के नाम से भी जाना जाता है, राजा नग्नजित की बेटी थी। अपने पिता द्वारा निर्धारित कठिन कार्य को सफलतापूर्वक पूरा करने के बाद उन्होंने कृष्ण से विवाह किया।

भद्रा

भद्रा केकय राज्य की राजकुमारी थीं और उन्होंने कृष्ण से भी विवाह किया था।

aarti kunj bihari Video By T-series

aarti kunj bihari ki Video By

 

 

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top